ज़िन्दगी

जब वक़्त है मेरे पास तो तुम मशरूफ़ हो गए, कभी मैं तुम्हारे इंतज़ार में कभी तुम मेरे इंतज़ार में और ज़िंदगी यूँ ही तमाम हो गयी|
MR